Home राजस्थान रायसिंहनगर (श्रीगंगानगर) रायसिंहनगर : प्याऊ पर कब्जे को लेकर सीज दुकान के खुलने पर पालिका कार्यवाही पर लगे सवालियां निशान, 25 लाख रूपये मे पालिका ने प्याऊ का किया सौदा … पढ़िये पूरी खबर

रायसिंहनगर : प्याऊ पर कब्जे को लेकर सीज दुकान के खुलने पर पालिका कार्यवाही पर लगे सवालियां निशान, 25 लाख रूपये मे पालिका ने प्याऊ का किया सौदा … पढ़िये पूरी खबर

रायसिंहनगर। शहर में पालिका ईओ द्वारा ताबड़तोड़ की जा रही अवैध भवनों पर कार्यवाही अब विवादों में घिरती नजर आ रही है। 1 नवम्बर को स्वरूप ज्वेलर्स द्वारा पालिका की जगह पर एक सार्वजनिक प्याऊ पर कब्जे को लेकर सीज की कार्यवाही की गई थी, लेकिन सीज के दूसरे ही दिन दुकान को खोलने के आदेश के चलते पूरे शहर में पालिका की इस कार्यवाही पर सवालियां निशान लग गये है। जब इस संबंध में ईओ हंसा मीणा से मीडिया ने सवाल किया तो उन्होंने बताया कि संबंधित व्यक्ति ने उक्त प्याऊ के लिए 25 लाख रूपये भर दिये है। जिसके बाद नियमन की कार्यवाही शुरू है। वहीं भुगतान नगद या चैक या फिर किस रूप में किस-किस मद में पालिका द्वारा लिया गया है, इसका खुलासा नहीं होने से इस पूरे प्रकरण में भ्रष्टाचार की बू के आरोप लग रहे है। जानकारों का मानना है कि यदि पालिका ने प्याऊ के लिए पैसा भरवाना ही था, तो बोली करवानी चाहिये थी, पालिका ने सार्वजनिक जगह पर लगी प्याऊ का सौदा कर लिया है। पुरानी परम्परा चली आ रही है कि लोग धर्माथ प्याऊ लगवाते है, ओर यहां पालिका ने प्याऊ का सौदा ही कर डाला। वहीं पालिका द्वारा स्थित स्पष्ट नहीं होने की वजह से शहर में अलग-अलग कयास लगाये जा रहे है। जानकारों का मानना है कि पालिका ईओ द्वारा जल्दबाजी में यह कार्यवाही की गई थी, जिसके बाद अधिकारी को अपने ही आदेशों को पलटना पड़ा। फिलहाल पूरे शहर में भू-माफिया एवं अतिक्रमणकारियों में खौफ का माहौल स्पष्ट देखा जा रहा है। इस बात को लेकर चर्चा जोरों पर है कि अगली कार्यवाही किस पर होगी। शहर के मध्य में नियम-कानूनों को ताक पर रखकर चलाये जा रहे मिठाईयों के अवैध कारखानों पर भी शहर के लोग कार्यवाही की मांग कर रहे है। शहर में इस बात को लेकर अति उत्साह देखा जा रहा है कि पालिका ने पहली बार रेहड़ी-खौमचे वालों को छोड़कर बड़ी मछलियों पर हाथा डाला है। ईओ हंसा मीणा ने जो-जो कार्यवाही की है उनको लेकर तत्कालीन अधिकारियों ने केवल नोटिस का सिलसिला ही चालू रखा था। लेकिन कार्यवाही का रिस्क किसी भी अधिकारी ने नहीं उठाया। फिलहाल शहर में हो रही कार्यवाही को लेकर सत्तापक्ष एवं विपक्ष दोनो खामौश है। जब उपरोक्त पूरे प्रकरण में पालिकाध्यक्ष मनीष मोहन कौशल ‘टॉनी’ से संपर्क करने का प्रयास किया जो उनसे संपर्क नहीं हो पाया।

Load More Related Articles
Load More By OFFICE DESK
Load More In रायसिंहनगर (श्रीगंगानगर)