Home राजस्थान रावलामंडी (श्रीगंगानगर) रावलामंडी : पुलिस द्वारा अवैध खनन की आशंका में की कार्यवाही में आया नया पेच, माईनिंग विभाग की अंधेरगर्दी आई सामने… पढ़िये पूरी खबर

रावलामंडी : पुलिस द्वारा अवैध खनन की आशंका में की कार्यवाही में आया नया पेच, माईनिंग विभाग की अंधेरगर्दी आई सामने… पढ़िये पूरी खबर

रावलामंडी। रावला तहसील की ग्राम पंचायत 10 डीओएल के अतंर्गत पड़ने वाले चक 4 केएलएम में अवैध खनन की सूचना पर रावला पुलिस द्वारा की गई कार्यवाही में खनिज विभाग की बड़ी लापरवाही सामने आई है। आप को बता दें कि रावला पुलिस ने कल दोपहर बाद चक 4 केएलएम के खेत मालिक वजबर खां के मुरब्बा नम्बर 98/25 के किला नम्बर 5 एवं 6 में अवैध खनन की सूचना पर कार्यवाही की थी। वहीं सूत्रों से जानकारी मिली है कि पुलिस को जो इनपुट सामने आये थे उसमें बताया गया कि खेत मालिक के पास किला नम्बर 1से 4 में लीज स्वीकृत है। जबकि खनन 5 एवं 6 में किया जा रहा है। अब इस पूरे मामले में नया पेच सामने आ गया है। यह पूरी गुथी खनिज विभाग ही सुलझायेगा। वहीं इस पूरे मामले में किसान हित की पड़ताल में सामने आया कि जहां पुलिस ने अवैध खनन की आशंका को लेकर कार्यवाही की है, दरअसल उस जगह यानि कि 98/25 के किसी भी किले में लीज स्वीकृत नहीं है। उक्त खेत मालिक के दूसरे मुरब्बा नम्बर 98/57 में लीज स्वीकृत है। यह पूरा मामला सामने आने पर एक बार फिर खनिज विभाग की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े हो गये है। जिसके चलते क्षेत्र में अवैध खनन की गतिविधियां पहले ही चरम सीमा पर है, इसमें इस प्रकार की गफलत से राजस्व को भी भारी चूना लगाया जा रहा है। इसके प्रकार की लापरवाही से स्थानीय प्रशासन को भी कार्यवाही करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। जब इस संबंध में हल्का पटवारी महेन्द्र कुमार सागवान से दूरभाष पर किसान हित ने संपर्क किया तो उन्होंने भी मामले का खुलासा करतेे हुए कहा कि माईनिंग विभाग जब लीज का नक्शा जारी करता है तो उसमें किला नम्बर का जिक्र ही नहीं करता है, इसलिए कार्यवाही में दिक्कत आती है, जबकि होना ऐसा चाहिये कि लीज में किला नम्बर अवश्य देना चाहिये कि राजस्व से जुड़े अधिकारी को समझने में दिक्कत न आये, वहीं उपरोक्त मामले में तो पूरा ही घालमेल है। अब इस पूरे प्रकरण की जिप्सम विभाग द्वारा की जाने वाली कार्यवाही से खुलासा होगा। यदि इसमें कुछ गलत पाया जाता है तो संबंधित काश्तकार के मुरब्बा नम्बर 98/25 पर 177 की कार्यवाही के लिए उच्चाधिकारियों को लिखा जायेगा। वहीं आप को बता दें कि जिप्सम विभाग ने जिस मुरब्बा नम्बर 98/57 की लीज जारी की है उसमें जिप्सम का कण मात्र भी नहीं बताया जा रहा है। आखिर गफलत कहां पर हुई है यह पूरा जांच का विषय है।

Load More Related Articles
Load More By OFFICE DESK
Load More In रावलामंडी (श्रीगंगानगर)