Home राजस्थान रायसिंहनगर (श्रीगंगानगर) रायसिंहनगर : शहर की मां अन्नपूर्णा रसोईघर में अनूठी पहल, आज से मरीजों के लिए निःशुल्क भोजन

रायसिंहनगर : शहर की मां अन्नपूर्णा रसोईघर में अनूठी पहल, आज से मरीजों के लिए निःशुल्क भोजन

रायसिंहनगर। पिछले तीन सालों से शहर की सामाजिक संस्थाओं एवं आमजन के सहयोग से मरीजों के लिए मात्र 5 रूपये से शुरू हुई मां अन्नपूर्णा रसोईघर ने आज से एक ओर अनूठी पहल शुरू की है। जिसके बाद आज से शहर के सरकारी एवं निजी हॉस्पीटल में भर्ती मरीजों को निःशुल्क भोजन उपलब्ध करवाया जायेगा, वो भी ऐसा भोजन जो डाक्टर द्वारा मरीज के लिए बताया गया हो। मीडिया की मौजूदगी में प्रशासन के आला अधिकारी सहित संस्था से जुड़े पदाधिकारी द्वारा निःशुल्क कूपन का विमोचन भी किया गया। इस मौके पर संस्था के नवनिर्वाचित अध्यक्ष यंगप्रकाश जोहिया ने कहा कि पिछले तीन साल से मां अन्नपूर्णा रसोईघर हॉस्पीटल में भर्ती मरीजों के लिए नाम मात्र के शुल्क पर भोजन उपलब्ध करवा रही थी, लेकिन आज गणतंत्र दिवस के मौके पर रसोईघर ने नयी एवं एक अनूठी पहल शुरू करते हुए निजी एवं सरकारी हॉस्पीटल में भर्ती मरीजों के लिए निःशुल्क भोजन की शुरूवात की है। यही नहीं रसोई में मरीजों के लिए डाक्टर द्वारा बताई डाईट के अनुसार ही भोजन तैयार होगा। वहीं मरीज के साथ आये अन्य सदस्यों के लिए रसोईघर मात्र 10 रूपये में भरपेट भोजन उपलब्ध करवायेगा। इस मौके पर मुख्य अतिथि उपखण्ड अधिकारी अर्पिता सोनी, तहसीलदार अमरसिंह, पुलिस अधीक्षक विक्की नागपाल एवं थानाप्रभारी पुष्पेन्द्र झाझड़िया ने इस सराहनीय कार्य के लिए मुक्तकंठ से प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि अपने देश एवं प्रदेश की परम्परा रही है कि मानव जीवन में भूखे को भोजन करवाना सबसे उत्तम कार्य है। इससे बढ़कर कोई बड़ा सामाजिक सरोकार नहीं हो सकता है। पुलिस उप-अधीक्षक विक्की नागपाल ने कहा कि मुझे यहां के स्टाफ से जानकारी मिली है कि कोरानाकाल में लॉकडाऊन के चलते यहां कि सामाजिक संस्थाओं ने प्रशासन का सहयोग करते हुए सराहनीय कार्य किया है, वह अति प्रशंसनीय है। उपखण्ड अधिकारी अर्पिता सोनी ने कहा कि यहां के नागरिकों एवं सामाजिक संस्थाओं के सहयोग की जब भी प्रशासन को आवश्यकता पड़ी तब-तब वे प्रशासन के साथ कंधे से कंधा मिलाये खड़े नजर आये। तहसीलदार अमरसिंह ने रसेाईघर की खुले मन से प्रशंसा करते हुए कहा कि जब भी आपको कोई प्रशासनिक मद्द चाहिये आपके लिए हमारे प्रशासन की ओर से 24 घण्टे दरवाजे खुले है, दूसरी बात ये है कि यहां की साफ-सफाई इतनी अच्छी है कि जितनी तारीफ की है वह कम है। थानाप्रभारी पुष्पेन्द्र झाझड़ियां ने कहा कि यहां कि सामाजिक संस्थाओं की जितनी तारीफ की जाये कम है। रसोईघर द्वारा मरीजों के लिए की गई अनूठी पहल काबिलेतारीफ है। यहां गांवों से दूर-दूर के मरीज अपना ईलाज करवाने आते है। उन्हें पता ही नहीं होता कि कौनसी चीज कहां मिलेगी। संसधानों के अभाव में उन्हें यहां जूझना पड़ता है। मरीजों को यदि निःशुल्क गर्म भोजन मिल जाये तो उसके लिए भगवान से कम नहीं है। क्योंकि भगवान ही सामाजिक संस्थाओं के सहयोग से आप और हम लोगों को माध्यम बनाते है। हमारा तो फोर्स में आकर ये ध्येय है कि आमजन की मद्द की जाये, लेकिन आप लोग तो बिना तनख्वाह के अपना समय निकाल कर इतना नेक काम कर रहे है। जिसके लिए मेरे पास शब्द नहीं है। मैं और मेरे विभाग या फिर निजी तौर पर भी यदि आपको कोई मद्द चाहिये, आप कभी भी मेरे पास आ सकते है। पुलिस प्रशासन आपकी मद्द के लिए सदैव तत्पर है।

Load More Related Articles
Load More In रायसिंहनगर (श्रीगंगानगर)