Home राजस्थान रायसिंहनगर (श्रीगंगानगर) पदमपुर : किसान हित की खबर का हुआ असर, हरकत में आई पुलिस ने पीड़ित पत्रकार का किया मुकद्मा दर्ज

पदमपुर : किसान हित की खबर का हुआ असर, हरकत में आई पुलिस ने पीड़ित पत्रकार का किया मुकद्मा दर्ज

261

पदमपुर। 10 सितम्बर को पदमपुर के राजकीय चिकित्सालय में एक मरीज के ईलाज में कौताही को लेकर मचे बवाल के बाद वहां पर अवैध रूप से दाई का काम देखने वाली एक महिला एवं पत्रकार के बीच विवाद के मामले में पुलिस की शिथिलता के चलते मामले ने जब तुल पकड़ा तो पहले तो पुलिस ने एक तरफा कार्यवाही करते हुए दाई पुष्पा महेन्द्रा की और से मुकद्मा दर्ज कर लिया। वहीं पीड़ित पत्रकार का परिवाद थाने मे ंपड़ा धूल फांकता रहा। किसान हित के 17 सितम्बर के अंक में जब उक्त प्रकरण को प्रमुखता से उठाया गया तो पदमपुर पुलिस हरकत में आई। पुलिस ने तुरंत पत्रकार राकेश खिंची को बुलाकर मामला दर्ज कर लिया। परन्तु इसके बावजूद पत्रकारों को गुस्सा शांत नहीं हो रहा है। मामले ने उस समय और तुल पकड़ लिया जब पत्रकार राकेश खिंची को पुलिस हैड कांस्टेबल द्वारा धमकाते हुए रेल बनाने की बात का वीडियो वायरल हो गया। पुलिस की इस प्रकार की कार्यशैली को लेकर पत्रकारों में रोष फैल गया। अब पत्रकार ने विभिन्न माध्यमों से पदमपुर थाने में एचएम पद पर कार्यरत हैड कांस्टेबल सुरेन्द्र को वहां से हटाने की मांग करने लगे है। आप को बता दें कि 10 सितम्बर को पदमपुर राजकीय चिकित्सालय में वार्ड नम्बर 8 मंे रहने वाला वेदप्रकाश अपनी 6 वर्षीय बच्ची को लेकर हॉस्पीटल पहुंचा था। बच्ची के गले में खेलते समय 5 रूपये का सिक्का गले में अटक गया। बताया जा रहा है कि जब वेदप्रकाश बच्ची को लेकर इमरेंजी में पहुंचा तो वहां मात्र एक अस्थाई रूप से दाई काम देखने वाली पुष्पा महेन्द्रा मौजूद थी। जिसने बच्ची को प्राथमिक उपचार देने का प्रयास किया। लेकिन अप्रशिक्षित होने की वजह से वह बच्ची का ईलाज सही तरीके से नहीं कर पाई और बच्ची बेहोश हो गई। इसी बीच हॉस्पीटल में वार्ड के 15-20 लोग भी मौके पर पहुंच गये। इसी दौरान किसी ने फोन कर स्थानीय पत्रकार राकेश खिंची को मौके पर बुला लिया। पत्रकार ने मौके पर पहुंचकर घटनास्थल का वीडियो बनाना शुरू कर दिया। इसी बात से घबराई दाई पुष्पा महेन्द्रा पत्रकार से उलझते हुए गाली-गलौच करते हुए मोबाईल छिन लिया। वहीं पुष्पा ने पत्रकार को छेड़छाड़ एवं अन्य मामले में फंसाने की धमकी दे डाली। जिसके बाद पत्रकार ने पुष्पा के खिलाफ थाने में परिवाद दे दिया। वहीं पुष्पा ने पत्रकार पर छेड़छाड़ का आरोप लगाते हुए परिवाद भी दे दिया। मामले को निपटता न देखकर पुलिस ने 9 सितम्बर को पत्रकार के खिलाफ मुकद्मा दर्ज कर लिया। वहीं एक तरफा कार्यवाही से पत्रकारों में रोष फैल गया। पुलिस की इस कार्यप्रणाली के खिलाफ किसान हित ने जब सवाल खड़े किये तो पुलिस ने पत्रकार के परिवाद पर संज्ञान लेते हुए मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस ने आईपीसी की धारा 382 एवं 504 मंे मामला दर्ज करते हुए जांच सहायक पुलिस निरीक्षक साहबराम को सौंप दी है।

Load More Related Articles
Load More By OFFICE DESK
Load More In रायसिंहनगर (श्रीगंगानगर)